Black fungus

Black fungus

कोरोना के बीच बढ़ा ब्लैक फंगस का खतरा, जानें इस बीमारी के लक्षण और बचाव के तरीके

कोरोना संक्रमण के बीच ‘ब्लैक फंगस’ नाम की बीमारी सामने आई है. यह बीमारी कोरोना पीड़ित उन मरीजों को हो रही है जिन्हें डायबिटीज है. यह बीमारी मस्तिष्क, फेफड़े और त्वचा को भी प्रभावित करती है.

देश कोरोना संकट से जूझ ही रहा है कि इस बीच म्यूकोरमायकोसिस संक्रमण यानि ब्लैक फंगस का एक और खतरा लोगों पर मंडराने लगा है. यह बीमारी उन कोरोना पीड़ित मरीजों में देखने को मिल रही है जो डायबिटीज से पीड़ित हैं. दुर्लभ किस्म की यह बीमारी आंखों में होने पर मरीज की रोशनी भी खत्म कर दे रही है. आईसीएमआर ने बताया है कि यह शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. इस बीमारी से शरीर के कई अंग प्रभावित हो सकते हैं. ऐसे में हम आपको आज बताएंगे इसके खतरे, लक्षण और बचाव के तरीके.

क्या है ब्लैक फंगस?

भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक, ब्लैक फंगस एक दुर्लभ तरह का फंगस है. यह फंगस शरीर में बहुत तेजी से फैलता है. यह इंफेक्शन उन लोगों में देखने को मिल रहा है जो कि कोरोना संक्रमित होने से पहले किसी दूसरी बीमारी से ग्रस्त थे. यह उन्हीं लोगों में देखने को मिल रहा है जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है.

क्या इससे मौत होती है?

इस बीमारी से मस्तिष्क, फेफड़े और त्वचा पर भी असर देखने को मिलता है. इसके कारण आंखों की रौशनी भी चली जाती है. वहीं कुछ मरीजों के जबड़े और नाक की हड्डी तक गल जाती है. अगर समय रहते इसका उपचार नहीं किया गया तो तो मरीज की मौत हो जाती है.

क्या है लक्षण?

यह संक्रमण ज्यादातर उन्हीं मरीजों में देखने को मिला है जो कि डायबिटीज से पीड़ित हैं. ऐसे मरीजों को डायबिटीज पर कंट्रोल रखना चाहिए. विशेषज्ञों के मुताबिक ब्लैक फंगस के कारण सिर दर्द, बुखार, आंखों में दर्द, नाक बंद या साइनस के अलावा देखने की क्षमता पर भी असर पड़ता है.

काम की सलाह?

अगर किसी व्यक्ति में ये लक्षण दिखे तो उसे तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए. विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना संक्रमण या उसके डर के कारण कई बार लोग बिना डॉक्टरी सलाह के या ज़रूरत से ज़्यादा स्टेरॉयड ले लेते हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि ऐसा करने से ब्लैक फंगस का खतरा होता है.

मौजूदा वक्त में इस बीमारी से निपटने के लिए अभी सुरक्षित सिस्टम नहीं है. इसकी दवा की शॉर्टेज या कालाबाज़ारी अभी से ही कुछ जगहों पर होने की खबर आ रही है. ऐसे में विशेषज्ञ बताते हैं कि मौजूदा हालत को देखते हुए सतर्कता ही बचाव का एकमात्र कारण है.

ब्लैक फंगस: कोरोना के मरीज इन लक्षणों को ना करें इग्नोर, हो सकता है म्यूकोरमाइकोसिस
ब्लैक फंगस नाक से शुरू होकर आपकी आंखों और मस्तिष्क तक पहुंचाता है। जो बाद में जानलेवा तक साबित हो सकता है। इस आर्टिकल में जानिए इसके लक्षण और कोविड के मरीजों को किन-किन बात का ध्यान रखना जरूरी है।
ब्लैक फंगस: कोरोना के मरीज इन लक्षणों को ना करें इग्नोर, हो सकता है म्यूकोरमाइकोसिस

कोरोना की मार अब आंखों पर भी पड़ रही है। कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में आंखों से जुड़ी कई परेशानियां देखने को मिल रही हैं और ये एक बड़ा चैलेंज है। छोटी-मोटी दिक्कत तो ठीक है, लेकिन अब तो ऐसे मामले भी सामने आ रहे हैं, जहां लोगों को अपनी आंखें गंवानी पड़ रही हैं। गुजरात , महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश भी ऐसे मामले सामने आ रहे हैं। इस इफेक्शन को ‘म्यूकोरमाइकोसिस’ नामक नाम से जाना जाता है जिसे सामान्य भाषा में काला फंगल कहते हैं। इस फंगल का खतरा लो इम्यूनिटी वालों को सबसे अधिक है।

ब्लैक फंगस नाक से शुरू होकर आपकी आंखों और मस्तिष्क तक पहुंचाता है। जो बाद में जानलेवा तक साबित हो सकता है। इस आर्टिकल में जानिए इसके लक्षण और कोविड के मरीजों को किन-किन बात का ध्यान रखना जरूरी है।

ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद करेगा सौंफ, डायबिटीज के मरीज ऐसे करें सेवन

म्यूकोरमाइकोसिस (ब्लैक फंगस) के लक्षण

सिर दर्द
चेहरे पर दर्द
नाक बंद
आंखों की रोशनी कम होना या फिर दर्द होना
मानसिक स्थिति में बदलाव या फिर भ्रम पैदा होना
गाल और आंखों में सूजन
दांत दर्द
दांतों का ढीला होना
नाक में काली पपड़ी बनना

कोविड मरीज काले फंगस से बचने के लिए क्या करें और क्या नहीं

ब्लैक फंगस के संकेत और लक्षणों से बचे। यह दिमाग में पंहुच गया तो खतरनाक साबित हो सकता है।
हाइपरग्लाइसीमिया को कंट्रोल करें
कोरोना से निजात पाने के बाद भी अपना ब्लड शुगर टेक करते रहें। खासकर डायबिटीज के मरीज।
स्टेरॉयड का उपयोग सही तरीके से करें – सही समय, सही खुराक और अवधि
एंटीबायोटिक/एंटीफंगल का प्रयोग भी ठीक ढंग से सोच-समझकर करे।

Leave a Reply